Skip to main content

Posts

Showing posts from May, 2021

The Ten Steps Needed For You : बच्चों में सेल्फ स्टडी की आदत विकसित कैसे करे । BY :- luckyravinder

एक अमेरिकी शिक्षा विशेषज्ञ द्वारा किए गए एक अध्ययन के अनुसार, यह पाया गया कि स्व-अध्ययन करने वाले बच्चे अधिक अनुशासित होते हैं। स्व अध्ययन की समय सीमा बच्चों की उम्र और जरूरतों पर निर्भर करती है। छोटे बच्चों के लिए स्व-अध्ययन के दौरान लेखन के साथ-साथ अपने पढ़ने के कौशल में सुधार करना महत्वपूर्ण है। More Read:  SVV Study Material: Empowering Education with Shree Vasishtha Vidhyalaya-2023 जब भी बच्चों की शिक्षा की बात आती है, तो माता-पिता यह सोचकर संतुष्ट हो जाते हैं कि हमने बच्चे का गृहकार्य पूरा कर लिया है। लेकिन सिर्फ होमवर्क करने से परीक्षा में अच्छे नंबर नहीं आएंगे ? क्या ऑनलाइन क्लास लगाने मात्र से की बच्चे पढ़ाई में अच्छे अंक लाने में सक्षम हो सकते हैं ? परीक्षा में अच्छे अंक लाने के लिए आपको अपनी दिनचर्या इस तरह बनानी होगी कि आप बिना किसी रुकावट के कम से कम एक घंटे तक उसकी मदद कर सकें। इस दौरान आपको अभ्यास के माध्यम से बच्चे की लिखावट और वह जो पढ़ रहा है उसे समझाने की कोशिश करनी चाहिए। माता-पिता को चाहिए की स्कूल टीचर से अच्छे संबंध  बनाकर रखें । बच्चे की हर अच्छी बुरी बात को

टेंशन नहीं लेने का, सब उस पर छोड़ दें ! by:- luckyravinder

              "क्यों व्यर्थ की चिंता करते हो, टेंशन नहीं लेने का, सब उस पर छोड़ दें ! क्या आप भी कारोना कॉल में तनाव में जी रहे हैं ? कारोना कॉल में आजकल हर कोई तनाव में है । हर इंसान के अंदर एक अजीब सा डर बना हुआ है जिसको वह किसी को बता भी नहीं सकता बस अंदर ही अंदर डर के माहौल में जी रहा है । कुछ हद तक डर सही भी है, टेंशन लेना सही भी है । मेरा मानना है कि सोशल मीडिया और न्यूज़ चैनल ने कारोना के बारे में कुछ बातें ज्यादा भी बढ़ा चढ़ा कर फैला दी हैं या कह सकते हैं कि अज्ञान की वजह से लोगों में एक अजीब सी टेंशन उत्पन्न हो गई है । आजकल एक दूसरे को हर कोई कहता है कि टेंशन मत लेना मैं हूं ना । इसका यह मकसद होता है की अपना ध्यान रखना और कोई भी काम ध्यान से करना । समय विपरीत दिशा में चल रहा है । हमें हमेशा समय के साथ चलना चाहिए । आज का समय हमें यह इजाजत नहीं देता कि हम बाहर घूमने लोगों से मिले । हमें समय के हिसाब से कारोना से बचकर चलना चाहिए । कारोना से बचने के लिए हमें सावधानी की, सूझ- भुज की जरूरत है । टेंशन लेने की बात नहीं है । हमें सरकार द्वारा दिए गए गाइडलाइंस को अपनाते हुए कार

बच्चों को कुछ समझाना बहुत चुनौतीपूर्ण काम है और स्कूल बंद होने के कारण उनके रवैये में भी बदलाव आया है । जाने 2022 में बच्चों के अतार्किक रवैये को सुधारने के तरीके । By :- luckyravinder

बच्चों के अतार्किक रवैये से कैसे निपटा जाता है । जाने बच्चों को कुछ समझाना अब बहुत  चुनौतीपूर्ण काम है।  और स्कूल बंद होने के कारण उनके रवैये में भी बदलाव आया है । जाने 2022 में बच्चों के रवैये को सुधारने के तरीके । बच्चों को कुछ समझाना अब बहुत चुनौतीपूर्ण काम है। विशेष रूप से किशोरावस्था में, बच्चे न केवल बहस करते हैं, बल्कि वे ज़िद्दी और अड़ियल रवैया भी दिखाते हैं, जो किसी और चीज़ की उनकी समझ को बहुत सीमित कर देता है। करोना की वजह से स्कूल बंद होने के कारण बच्चे घर में कैद होकर रह गए हैं । स्कूल में उन्हें खेलकूद वाला, पढ़ाई वाला माहौल मिलता था इसीलिए उनका पढ़ाई में भी दिल लगता था । घर में वह स्कूल वाला माहौल न बनने के कारण और ऑनलाइन क्लास लगने के कारण स्कूल जैसी पढ़ाई नहीं हो रही और ऊपर से माता-पिता का इतना ज्यादा प्रेशर टीचर से वी क्लास में डांट पड़ना आदि कुछ ऐसी बातों से बच्चों के व्यवहार में बहुत ज्यादा अंतर आया है । More Read:  बच्चों को कुछ समझाना बहुत चुनौतीपूर्ण  बच्चे लगता है जैसे चिड़चिड़ा हो गए हैं । वह माता-पिता की बातों पर कम ध्यान देते हैं । स्कूल टीचर की बातों पर भी क

क्या आप जानते हैं कि रुद्राक्ष आपकी जिंदगी बदल सकता है, रुद्राक्ष पहनने और अपनी जिंदगी में बदलाव देखें । By :- luckyravinder

  रुद्राक्ष के लाभ क्या आप रुद्राक्ष और उसका महत्व के बारे में जानते हैं ? क्या आप जानते हैं कि रुद्राक्ष आपकी जिंदगी बदल सकता है, रुद्राक्ष पहनने और अपनी जिंदगी में बदलाव देखें । क्या करोना काल में भी रुद्राक्ष हितकारी है । क्या आप जानते हैं कि रुद्राक्ष धारण करने से भूत- प्रेत , मानसिक बीमारी,कफ, सांस संबंधी और भी बहुत सारी बीमारियों आपसे बहुत दूर रहती हैं । घर में सुख शांति और सौभाग्य बना रहता है । आजकल, एक आधुनिक हिंदू कौन है जो रुद्राक्ष से परिचित नहीं है। रुद्राक्ष पहनना एक तरह से फैशन स्टेटमेंट बन गया है। प्रत्येक तीर्थ स्थल पर बड़ी मात्रा में रुद्राक्ष पाए जाते हैं। टीवी पर भी आप पाएंगे कि कई तरह के रुद्राक्ष बहुत अच्छी पैकिंग में बेचे जाते हैं। हर विक्रेता दावा करेगा कि उसका रुद्राक्ष असली है, बाकी नकली है। सच क्या है, कौन जानता है। हर विक्रेता यह दावा करेगा कि रुद्राक्ष पहनते ही उनकी सभी परेशानियां खत्म हो जाएंगी। उनके चरणों में विनम्र निवेदन है, हे महामहिम, यदि रुद्राक्ष मानव जीवन की सभी समस्याओं को दूर करता है, More read  :  Essential Care Tips for Women in Early Pregna